याद में बेगाने…

याद में बेगाने…

 

मेरे अश्क़ तेरी बेरुखी का एहसास हैं,
तेरी याद में ये फिर बेगाने हो चले।

 

Leave a Reply