जहाँ कदर न हो…

जहाँ कदर न हो…

जहाँ कदर न हो अपनी वहाँ जाना फ़िज़ूल है, 
चाहे किसी का घर हो चाहे किसी का दिल।

Leave a Reply