आँख से अश्क…

​ ​

आँख से अश्क…

जान-ए-तन्हा पे गुजर जायें हजारो सदमें, 
आँख से अश्क रवाँ हों ये ज़रूरी तो नहीं।

Leave a Reply